पतंजलि के च्यवनप्राश वाले विज्ञापन पर लगी रोक

पतंजलि के च्यवनप्राश वाले विज्ञापन पर रोक लग गयी है दिल्ली उच्च न्यायालय ने पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ( PATANJALI AYURVED LIMITED ) के च्यवनप्राश को बढ़ावा देने वाले विज्ञापनों को प्रसारित करने पर रोक लगा दी गई है कोर्ट ने यह फैसला लिया है कि डाबर इंडिया की याचिका पर दिया जिसने कहा था कि विज्ञापन में उनके उत्पाद की उपेक्षा की गई है एकल पीठ ने डाबर की उस याचिका को खारिज कर दिया था जिसमें पतंजलि के विज्ञापन का प्रसारण रोकने की अपील की गई थी

न्यायमूर्ति सी हरी शंकर की खंडपीठ ने अंतरिम आदेश दिया है कि आयुर्वेदिक फर्म पतंजलि को किसी भी प्रकार या कोई भी कारण से विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगा रोक लगा दी गई है ऑर अदालत , आदेश के मुताबिक अगली सुनवाई (26 सितंबर) तक यह रोक जारी रहेगी

इसके साथ ही पीठ ने पंतजलि आयुर्वेद लिमिटेड को नोटिस जारी कर दिया है कि डाबर इंडिया की याचिका पर अपना रख स्पष्ट करने के लिए कहा है डाबर इंडिया ने पतंजलि से क्षतिपूर्ति के रूप में 2.01 करोड़ रपये की मांग भी की है डाबर इंडिया ने एकल पीठ के एक सितंबर के आदेश के खिलाफ याचिका दायर की है

Online Hindi News ऑनलाइन हिंदी न्यूज़ पोर्टल में आप सभी देश और उत्तराखण्ड की न्यूज़  (उत्तराखंड हिंदी समाचार ) अपडेट के लिए हमारे साथ जुड़ सकते हैं और हमें अपने सुझाव व् न्यूज़ todayhindisamachar@gmail.com पर भेज सकते हैं।

Comments