गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्या, वरिष्ठ पत्रकार व सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या

कन्नड की साप्ताहिक अखबार गौरी लंकेश पत्रिके  की संपादक और वरिष्ठ पत्रकार व सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या मामले की जांच पडताल एस आइ टी करेगा इसका फैसला  कर्नाटक सरकार ने लिया है  कि विशेष जांच दल (एसआईटी) [SIT ] करेगा कर्नाटक सरकार ने इसका फैसला किया है पत्रकार गौरी लंकेश जीवन भर अतिवादी विचारधारा से लड़ती रहीं मंगलवार रात को अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी उनके घर में लगे चार सीसीटीवी कैमरों से मिली फुटेज में साफ दिख रहा है।


पत्रकार लंकेश का अंतिम संस्कार बेंगलुरु में होगा गौरी लंकेश के परिजनो ने हत्या की सीबीआई जांच की मांग की है। सीसीटीवी कैमरे मे हमलावर नही दिखे हमलावरों की पहचान मुश्किल लग रही है, क्योंकि हमलावरों ने हेलमेट पहन रखे थे ऑर वो जिन बाइकों पर सवार थे उनके नंबर प्लेट भी नहीं थे राज्य सरकार ने गौरी लंकेश की हत्या के मामले की एसआईटी जांच का आदेश दे दिया है  हालांकि गौरी लंकेश के भाई ने सीबीआई जांच की मांग की है।

गौरी लंकेश को अहसास हो चुका था कि उनकी जान को खतरा है तभी शायद उनके दिमाग में ये साफ रहा होगा कि एक खास विचारधारा का विरोध उनकी जिंदगी को मौत में बदल सकता है जैसा कुलबर्गी, दाभोलकर या पनसारे के साथ हुआ गौरी ने कर्नाटक के पुलिस प्रमुख आर के  ( RK ) दत्ता को भी बताया था कि उनकी जान को खतरा है लेकिन अब पुलिस महानिदेशक आर के दत्ता  ने बताया कि पत्रकार गौरी लंकेश ने उनके साथ कई मुलाकातों के दौरान अपने जीवन पर खतरा बताया था।

यहां तक की गौरी ने कई बार सार्वजनिक तौर पर कहा था कि उनकी जान को खतरा है, लेकिन अब प्रशासन का कहना है कि गौरी ने कभी भी अपने लिए सुरक्षा नहीं मांगी ऐसे में उनको सुरक्षा कैसे दी जा सकती थी पुलिस कमिश्नर टी सुनील कुमार ने बताया कि मंगलवार की शाम को गौरी लंकेश ने राजराजेश्वरी नगर इलाके में स्थित अपने घर के सामने अपनी कार को रोका और दरवाजा खोलने के लिए आगे बढ़ी, उसी वक्त अज्ञात हमलावरों ने उनके उपर फायरिंग शुरू कर दी।

करीब 7 राउंड फायरिंग की गई. इसमें से 4 गोली गौरी को लगी, 3 गोली उनके सिर में लगी हैं फायरिंग की आवाज सुनकर पड़ोसी बाहर निकले गौरी खून से लथपथ पड़ी हुई थीं दूसरी ओर गौरी की हत्या से नाराज कई छात्रों ने विरोध अन्दोलन प्रदर्शन शुरू कर दिया है यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर साइंसेज के , पत्रकार की मौत के बाद बैनर लेकर यूनिवर्सिटी के बाहर बैठ गए है।

Online Hindi News ऑनलाइन हिंदी न्यूज़ पोर्टल में आप सभी देश और उत्तराखण्ड की न्यूज़  (उत्तराखंड हिंदी समाचार ) अपडेट के लिए हमारे साथ जुड़ सकते हैं और हमें अपने सुझाव व् न्यूज़ todayhindisamachar@gmail.com पर भेज सकते हैं।

Comments