उत्तराखंड में जल्द शुरू होगी सस्ती हेलीकॉप्टर सेवा

केंद्र सरकार ने उड़ान योजना से जुड़ने के लिए कुछ बदलाव किए हैं उड़ान से उद्देश्य यह है कि आम नागरिक योजना में हेलीकॉप्टर को शामिल किया गया है। सरकार ने छोटे विमान को उड़ान भरने की प्राथमिकता दे दी है।
हेलीकॉप्टर कंपनियों ने उड़ान सेवा शुरू करने के लिए निविदाएं मांगी थी केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू ने यह कहा है। कि क्षेत्र हवाई संपर्क को बढ़ाने के लिए इसको और उदार बनाया गया है। नागरिक योजना में अब हेलीकॉप्टर भी शामिल किए गए हैं।

ताकि उत्तराखंड हिमाचल प्रदेश पूर्वोत्तर अंडमान और निकोबार में हवाई संपर्क को प्रसिद्धि किया जा सके इसके अलावा हवाई पट्टियों को पंतनगर और हरिद्वार को इस योजना से जोड़ा गया है ताकि ज्यादा से ज्यादा हवाई उड़ानों से संपर्क बनाया जा सके।

केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने यह भी बताया है कि उत्तराखंड और हिमाचल, सरकार की प्राथमिकता वाले क्षेत्र में आते हैं उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में कई एडवांस लैंडिंग ग्राउंड भी हैं। केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा का लक्ष्य यह है कि प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में हवाई संपर्क को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाना यही लक्ष्य है।

केंद्रीय मंत्री का आप लोगों को यह भी जानकारी दें दें , कि केंद्र ने उड़ान योजना में हेलीकॉप्टर परिचालकों के लिए (VGF) वायबिलिटी गैप फंडिंग क्षतिपूर्ति सहायता बढ़ाई गई है विमानन मंत्री पी. अशोक गजपति राजू ने यह ऐलान करते हुए बताया है । कि उड़ान स्कीम के राउंड टू सरकार का मकसद बस यही है कि बंद पड़े हवाई अड्डों को हवाई सेवा से जोड़ना है।

विमानन मंत्री ने इस पैमाने पर विवाह विचार विमर्श करने के बाद इस योजना को और उदार बनाया है ।उनका लक्ष्य अभी सिर्फ इतना है कि जहां  हवाई कनेक्टिविटी नहीं है या फिर बहुत ही ज्यादा काम है उन जगहों पर फोकस करना है तथा विमानों का परिचालन शुरू किया जाना है उड़ान का किराया 50% सीटों का किराया बहुत ही ज्यादा किफायती रखा गया है। कम दरों पर लोगों को हवाई सुविधा यात्रा मिल सकेगी 500 किलोमीटर (km) तक की दूरी का किराया यानी कि 1 घंटे तक की उड़ान का अधिकतम किराया 2500 रुपये है।

Online Hindi News ऑनलाइन हिंदी न्यूज़ पोर्टल में आप सभी देश और उत्तराखण्ड की न्यूज़  (उत्तराखंड हिंदी समाचार ) अपडेट के लिए हमारे साथ जुड़ सकते हैं और हमें अपने सुझाव व् न्यूज़ todayhindisamachar@gmail.com पर भेज सकते हैं।

Comments