सावन का महत्व सोमवार करे इस तरह पूजा पांच सोमवार Sawan 2017 monday fast

सावन का महत्व सोमवार करे इस तरह पूजा पांच सोमवार Sawan 2017 monday fast


पहले सोमवार को महामायाधारी की पूजा विधि 
10 जुलाई को पड़ रहे पहले सोमवार को महामायाधारी भगवान शिव की आराधना करना चाहिए है। पूजा क्रिया के बाद शिव भक्तो को ऊं लक्ष्मी प्रदाय ऊं  ऋण मोचने श्री देहि-देहि शिवाय नम: का मंत्र का जाप 11 माला करना चाहिए। इस मंत्र के जाप से लक्ष्मी की प्राप्ति, व्यापार में वृद्धि और ऋण से मुक्ति मिलती है। प्रातः अगर जाप छूट जाये तो इस मंत्र को शाम को आरती से पूर्व भी किया जा सकता है जिस के जाप से आर्थिक ,मानशिक शरीर के दुखो का निवारण होता है

द्वितीय सोमवार को करें महाकालेश्वर की पूजा विधि 
17 जुलाई को पड़ रहे दूसरे सोमवार को महाकालेश्वर शिव की विशेष पूजा करने का विधान है। श्रद्धालु को ऊं महाशिवाय वरदाय ही ऐं काम्य सिद्धि रुद्राय नम: मंत्र का रुद्राक्ष की माला से कम से कम 11 माला जाप करना चाहिए। महाकालेश्वर की पूजा से सुखी गृहस्थ जीवन, पारिवारिक कलह से मुक्ति, पितृ दोष व तांत्रिक दोष से मुक्ति मिलती है।अगर आप के ऊपर किसी ने तंत्र विद्या का प्रयोग कर दिया है तो इस दिन इस मंत्र जाप को करने से सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिल जाती है

तीसरे सोमवार को अ‌र्द्धनारीश्वर की पूजा विधि 
24 जुलाई को पड़ रहे सावन के तीसरे सोमवार को अ‌र्द्धनारीश्वर शिव का पूजन किया जाता है। इन्हें खुश करने के लिए ऊं महादेवाय सर्व कार्य सिद्धि देहि-देहि कामेश्वराय नम: मंत्र का 11 माला जाप करना श्रेष्ठ माना गया है। इनकी विशेष पूजन से अखंड सौभाग्य, पूर्ण आयु, संतान प्राप्ति, संतान की सुरक्षा, कन्या विवाह, अकाल मृत्यु निवारण व आकस्मिक धन की प्राप्ति होती है। अगर आप भी इस तरह के किसी भी प्रकार से परेशान है तो इस २४ जुलाई को पड़ रहे सोमवार को इस जाप को करे जिस के करने से सभी प्रकार की बाधाओं से मुक्ति का रास्ता मिलेगा

चौथे सोमवार को तंत्रेश्वर शिव की आराधना
31 जुलाई को पड़ रहे चौथे सोमवार को तंत्रेश्वर शिव की विशेष पूजा की जाती है। इस दिन कुश के आसन पर बैठकर ऊं रुद्राय शत्रु संहाराय क्ली कार्य सिद्धये महादेवाय फट् मंत्र का जाप 11 माला शिवभक्तो को करनी चाहिए। तंत्रेश्वर शिव की कृपा से समस्त बाधाओ का नाश, अकाल मृत्यु से रक्षा, रोग से मुक्ति व सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। परेशान होकर अगर थक गए है तो इस मंत्र का जाप करे भगवान भोले नाथ की किरपा आशीर्वाद स्वरुप जरूर आएगी

पांचवें सोमवार को शिव स्वरूप भोले की पूजा
सात अगस्त को पड़ रहे पांचवें सोमवार को श्री त्रयम्बकेश्वर की पूजा की जाती है। वैसे साधन को जो सावन में किसी कारण कोई सोमवार नही कर पाते हैं उन्हें पांचवें सोमवार का व्रत करना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। इसमें रुद्राभिषेक, लघु रुद्री, मृत्युंजय या लघु मृत्युंजय का जाप करना चाहिए।अंतिम सोमवार होने के कारण इस दिन शिव भक्तो को अपनी तरफ से शिव रूप के सभी मंत्रो का जाप भी कर लेना चाइये ताकि अगर किसी का कोई सोमवार छूट गया है तो इस दिन जाप कर लेने से सभी तरफ के फलो की इच्छा पूरी होती है

Comments