मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया वृक्षरोपड हरेला पर्व पर

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को राज्य भर में मनाये जा रहे हरेला पर्व के अवसर पर राज्य वासियों से अपील की है कि हरियाली के पर्व हरेला पर राज्य का प्रत्येक व्यक्ति एक वृक्ष जरूर लगाएं। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने ‘‘एक व्यक्ति एक वृक्ष’’ का नारा देते हुए रविवार को बीएसएफ इंस्टिट्यूट डोईवाला में आयोजित हरेला पर्व 2017 का शुभारंभ किया।


हरेला पर्व का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सहित कैबिनेट के अन्य मंत्रियों तथा विधायक गणों ने बीएसएफ इंस्टिट्यूट परिसर में हरण, अमर लता, आवला तथा तेजपात जैसे विभिन्न औषधीय महत्व के पौधों का रोपण किया। राज्य वासियों को हरेला पर्व तथा संग्राद की शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि यह अत्यंत प्रसन्नता की बात है कि वन विभाग ने इस वर्षा काल में राज्य भर में 5000000 वृक्षारोपण का लक्ष्य रखा है साथ ही अन्य विभागों, संगठनों और तथा संस्थाओं द्वारा अन्य 5000000 पौधों का रोपण राज्य भर में किया जाएगा।


 कुल मिलाकर इस वर्षाकाल में एक करोड़ नए पौधे लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि हरियाली के पर्व हरेला पर हम सभी को वृक्षारोपण का संकल्प लेना होगा हमारे शास्त्रों में भी कहा गया है कि एक वृक्ष 10 पुत्रों के समान होता है। प्राचीन काल से ही भारतीय सभ्यता में वृक्षों की रक्षा की परंपरा रही है हमारी परंपरा में पीपल वृक्ष को पूजनीय तथा चिरंजीवी माना जाता है।


 मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने नागरिको से अपील की जितना अधिक संभव हो वृक्षारोपण करे।वटवृक्ष हमारी आस्था तथा अध्यात्म से जुड़ा हुआ है अतः हमारे अधिकारी भी पीपल के रोपण को महत्व दे रहे हैं क्योंकि इसके धार्मिक महत्व के कारण कोई इसे काटता नहीं है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि हमारे लोकगीत तथा पर्व भी प्रकृति प्रेम एवं पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हैं तथा हमें जीवन कैसे जीना चाहिए इसका मार्गदर्शन भी करते है।चाहे हम अपने घरों में सजावटी, नींबू, अमरूद तथा अन्य फलदार पौधे ही लगाएं तथा लगाए गए पौधों की सुरक्षा पर भी ध्यान दें। 

Online Hindi News ऑनलाइन हिंदी न्यूज़ पोर्टल में आप सभी देश और उत्तराखण्ड की न्यूज़  (उत्तराखंड हिंदी समाचार ) अपडेट के लिए हमारे साथ जुड़ सकते हैं और हमें अपने सुझाव व् न्यूज़ todayhindisamachar@gmail.com पर भेज सकते हैं।

Comments