कालेज छात्र बन गया आतंकी कही अपना दोस्त तो नहीं Danish student to hizbul terrorist

कालेज छात्र बन गया आतंकी कही अपना दोस्त तो नहीं Danish student to hizbul terrorist

देहरादून देवभूमि उत्तराखंड लगातार आतंकी वारदात को लेकर निशाने पर रहता है लेकिन देहरादून में आतंक का निशाना नहीं बल्कि यहाँ  शिक्षा के मंदिर में आतंक का गुर्गा अपना मास्टर माइंड दिमाग लगाकर अपनी आतंक की पाठशाला का ट्रेनर बन गया यही नहीं उसको कई यूथ बच्चो को आतंक की ट्रेनिंग दिए जाने के लिए तैयार किया गया था।

दानिश अहमद जैसे कई दूसरे आतंकी अभी भी देहरादून ये दूसरे शिक्षा के मंदिर में अपना ठिकाना   बना कर आतंक की ट्रेनिंग ले रहे हो सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश श्री नगर जैसे कई शिक्षा के मंदिरो में करीब 100 से जायदा स्कूली बच्चो को आई बी ने अपनी राडार पर रखा हुआ है जिस पर निगरानी रखी जा रही है उत्तराखंड हमेशा से ही आतंक के लिए सॉफ्ट कॉर्नर रहा है समय समय पर यहाँ से आतंक की वारदात को अंजाम देने वाले आतंकी भी पकड़े जा चुके है

दानिश अहमद दून पीजी कालेज ऑफ एग्रीकल्चर में आतंकी ट्रेनर 

युवक दानिश अहमद ने कश्मीर में आत्मसमर्पण किया वह देहरादून स्थित दून पीजी कालेज ऑफ एग्रीकल्चर साइंस एंड टेक्नालॉजी में बीएससी तृतीय वर्ष का छात्र था। दून पीजी कॉलेज के निदेशक डा. संजय चौधरी के मुताब‌िक दानिश ने 25 मई को बीएससी थर्ड ईयर फॉरेस्ट्री का पहला पेपर दिया था। इसके बाद वह अपने घर चला गया।

शिक्षा के मंदिर में आतंक का ट्रेनर कही अपना दोस्त तो नहीं 

सवालो ये भी उठ रहा है की क्या देहरादून में शिक्षा के मंदिरो में अभी भी बिना जांच के आतंक की ट्रेनिंग लेने वाले बच्चे पड़ रहे है क्यों की दानिश की गिरफ़्तारी ने पुलिस और सुरक्षा को लेकर सवाल जरूर उठा दिए है वही सूत्रों की बातो पर अगर यकीं किया जाये तो देवभूमि उत्तराखंड में कही न कही आतंक की ट्रेनिंग जरूर लेकर कोई युवा अपनी ट्रेनिंग की पाठशाला तैयार कर रहा होगा

जागरूक रहे कही दोस्त आतंकी तो नहीं 
स्कूल में पड़ने वाले यूथ अपने दोस्त को आसानी से जान से कही ऐसा तो नहीं की आप स्कूली दोस्त आपका इस्तामल कर अपनी आतंक की पाठशाला को अंजाम दे रहा हो स्कूली बच्चो को जागरूक किये जाने के लिए ध्यान दे ये बातें अपने दोस्त की हर गतिविधि पर नज़र रखे 

Comments